♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

किसानों की आय में चार गुना बढोत्तरी के लिए चंदौली में हाइटेक नर्सरी की स्थापना होगी – महेन्द्र नाथ पांडेय

टुडे इंडिया न्यूज 24.com उत्तर प्रदेश, चंदौली जनपद कृषि प्रधान है । यदि यहाँ किसानों को धन गेहूँ की खेती के साथ अन्य खाद्य तकनीकी की जानकारी एवं सुविधा मिलेगी तो किसान गुणवत्ता पूर्ण खाद्य की उपज कर उसे काफी ऊंचे दाम पर बेच कर आय अर्जित कर सकते हैं। उक्त बातें शनिवार की शाम को सैयदराजा विधानसभा क्षेत्र के माधोपुर गांव में हाईटेक वेजिटेबल सीडलिंग प्रोडक्शन इकाई(सेंटर आफ एक्सीलेंस फॉर वेजिटेबल) की 07 अगस्त को होने वाली स्थापना के लिए भूमि पूजन करते हुए तैयारी का
भूमि पूजन के लिए खुदाई करते भारी उद्योग मंत्री तथा चंदौली के सांसद महेन्द्र नाथ पांडेय

निरीक्षण करने आये केन्द्रीय भारी उद्योग मंत्री तथा चंदौली के सांसद महेन्द्र नाथ पांडेय ने कहा। उन्होने कहा कि किसानों की आय मे बढ़ोत्तरी करने के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है। उसी कड़ी में चंदौली के किसानों की आय को बढ़ाने के लिए मेरे जरिए इस योजना पर पहल किया गया। तथा सरकार ने स्वीकृति प्रदान कर दी है। उन्होने बताया कि हाईटेक नर्सरी का संचालन एवं सुपर विजन तथा तकनीकी इनपुट संबंधित कार्य उद्यान विभाग के परिसर इंचार्ज द्वारा किया जाएगा। हाईटेक पौधशाला पौध तैयार करने की आधुनिक तकनीक है। इसका क्षेत्रफल लगभग 7 हेक्टेयर होगा। जिसमें एक साथ 15 से 20 लाख पौध उत्पादित किये जा सकते है। पौधों को लगाने हेतु पौधशाला का तापमान 27 से 28 डिग्री सेल्सियस उपयुक्त रहता है, इसमें सेंस आधारित

प्रस्तावित क्षेत्र की जानकारी देते हुए सैयदराजा के विधायक सुशील सिंह, साथ में जिलाधिकारी संजीव सिंह, मीडिया प्रभारी हरबंश उपाध्याय

तकनीक अपनाने से बार-बार मशीनों को चलाने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। सेंसर आवश्यकतानुसार हाईटेक तापक्रम नियंत्रण हेतु कूलर पेड़ फैन को चला देता है। पौधों की सिंचाई हेतु वुमन तकनीक का प्रयोग किया जाता है। पौधों को 5 फीट की ऊंचाई  पर थर्माकोल में रखी हुई प्रो ट्रे मैं बैच पर रखा जाता है, जिसमें सिंचाई हेतु सहायता मिलती है। हाईटेक नर्सरी से उत्पादित पौध रोग रहित एवं स्वस्थ रहते है। पौध का उत्पादन नियंत्रित स्ट्रक्चर में कभी भी किया जा सकता है। जो कि खुले खेत में संभव नहीं है। साथ ही उन्होने कहा कि हाईटेक नर्सरी की स्थापना पर लागत लगभग 10 करोड़ की आती है। यहां के किसानों को धान व गेहूं के फसलों के अलावा उद्यान विभाग की फसलों को लगाने का मौका मिलेगा इसमें धान गेहूं के फसल की लागत के अपेक्षा इस क्षेत्र में काम करने से 4 गुना मुनाफा होगा जिलाधिकारी श्री संजीव सिंह ने कहा कि जनपद में सब्जियों के बीज का प्लांटेशन कर इक्छुक कृषकों को पौधों को उचित मूल्य पर देकर खेती के लिए प्रेरित किया जाएगा। सब्जियों की खेती कर किसान की आय में 4 गुना वृद्धि होगी। जिलाधिकारी ने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार किसानों के हित में नए-नए तकनीक का उपयोग कर अधिक मुनाफा वाली खेती को बढ़ावा दे रही है। उन्होने कहा कि प्रदेश में इस  तीसरे प्रोजेक्ट की स्थापना होने जा रही है। कार्यक्रम में सैयदराजा के विधायक सुशील सिंह, तथा मुख्य विकास अधिकारी, निदेशक उद्यान, उपजिलाधिकारी सकलडीहा, क्षेत्राधिकारी, उद्यान अधिकारी मौजूद रहे।


व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें



स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

[responsive-slider id=1811]

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 95084 43013